Friday, 12 September 2014

जिम में ऐसे न करें शुरुआत


बॉडी बनाने का शौक नया नहीं लेकिन कई बार जोश-जोश में ऐसी गलतियां हो जाती हैं जिससे लेने के देने पड़ जाते हैं। पहली बार जिम जाने वाले लोग अधिकतर ऐसी गलतियां करते हैं। जिम में कुछ गलतियों को दोहराना अपने शरीर को और खराब करने जैसा है। जिम में इन बातों का रखें खास ख्याल...
ज्यादातर युवा या नौसिखिए जिम के पहले दिन ही सबकुछ पा लेना चाहते हैं। इसके लिए वह पूरा जोश निकाल देते हैं, यह जाने बिना की इस एक्सरसाइज के लिए कितने सेट चाहिए और क्या यह उनके लिए जरूरी है भी। डंबल्स, ऐब क्रंच मशीन, लेवरेज चेस्ट प्रेस, मशीन कोई भी हो, शुरुआती हफ्ते में इसे 1 सेट (10-15 बार) ही रखें।
ध्यान रखिए, आप जिस किसी की बॉडी देखकर इन्सपायर्ड हैं उसने इसे एक दिन में ही नहीं हासिल किया है। इसके पीछे सालों की मेहनत और सही दिशा की जरूरत होती है। जिम के लिए अपना रूटीन निर्धारित अवश्य करें। चेस्ट, शोल्डर्स, बाइसेप्स शरीर के अलग-अलग हिस्से के लिए एक-एक दिन निर्धारित करें और उससे संबंधित मशीन पर निर्धारित दिन ही मेहनत करें।

धीरे-धीरे सेट बढ़ाएं...

  • एक अहम बात गांठ बांध लें, जिम करना और बॉडी बनाने के लिए जितना शारीरिक श्रम चाहिए होता है, उतनी ही मानसिक एकाग्रता भी इसके लिए जरूरी है
  • पॉजिटिव रहकर जज्बे के साथ धीरे-धीरे आगे बढि़ए। शुरुआत में जाकर फिर जिम छोड़ देने की प्रवृत्ति भी बहुतेरे लोगों में होती है।
  • भारत में जिम कल्चर तेजी से आगे बढ़ रहा है। गली-गली में जिम खुलने से एक्सपर्ट्स की डिमांड भी बढ़ी है। ऐसे में आपने कौन सा जिम जॉइन किया है, इसका खास ख्याल रखें। एक बेहतरीन ट्रेनर ही आपकी बॉडी को बेहतरीन शेप दे सकता है। डाइट से लेकर सोने-उठने तक का रूटीन ट्रेनर से ही बनवाएं। और एक्सरसाइज भी उसकी देख-रेख में ही करें।
  • बॉडी बनाने के लिए युवा अक्सर ही ऐसी चीजों का सेवन करते हैं जिसके बुरे परिणाम उन्हें भुगतने पड़ते हैं। बॉडी को बेहतर शेप देने के चक्कर में युवाओं के बाल झडऩे के किस्से भी सामने आए हैं। इसलिए जल्दबाजी में न पड़कर ट्रेनर की सलाह का पालन करें।
  • जिम में आते ही मशीन पर व्यायाम शुरू न करें, क्योंकि इससे आपको चोट लग सकती है, आपकी पीठ अकड़ सकती है और आपके शरीर में दर्द हो सकता है, इसलिए जिम में सबसे पहले हल्के-फुल्के व्यायाम करें, जैसे वार्म-अप और स्ट्रेचिंग।
  • वैसे, सेहत को दुरुस्त रखने के लिए योग, कसरत से बेहतर माध्यम कुछ हो ही नहीं सकता।

No comments:

Post a Comment